शुक्रवार, 18 अक्तूबर 2019

पीआरपी थेरेपी

  श                           पीआरपी थेरेपी 

               समय से पूर्व चेहरे की त्वचा पर आने वाली कमियों को विशेष विधियों के द्वारा पूर्ण रूप से ख़त्म करने की चिकित्सा का प्रयोग :--
    1 . झुर्रियाँँ - आँख के नीचे , नाक के आस पास , ओंठों के ऊपर , गर्दन के ऊपर , माथे पर आने वाली , मुंहासे, निशान , महीन रेखाएं , बाहों के नीचे के त्वचा का कालापन।
    2 .गर्भावस्था के बाद त्वचा में खिंचाव के निशान -  . त्वचा का पुनर्जीवन, झुर्रियों और काले घेरे या झाइंयों का निवारण। 

इसके लिए प्रयुक्त विधियाँ :--

प्लेटलेट्स रिच प्लाज्मा (पी आर पी ) थेरेपी

रसायन लेप :-   मुंहासे, निशान , महीन रेखाएं , बाहों के नीचे के त्वचा का धब्बे, झुर्रियां , सफेद डेग , रूखी त्वचा ।

बोटोक्स एवं त्वचीय भराव :- झुर्रियॉँ दूर करके चेहरे को आकर्षक बनाना , माथे की झुर्रियों या भौंहों के मध्य की रेखरें।

केमिकल पील (रसायन लेप ) क्या है ? 
                                            यह एक रसायन लेप होता है , जो विभिन्न प्रकार के त्वचीय विकारों के निवारण के लिए चेहरे पर लगाया जाता है।  अलग अलग विकारों के लिए अलग अलग लेप होता है।
जैसे :-
* मुहांसों और  उसके दागों के लिए सैलिसिलिक लेप,
* झाइयों  ग्लाइकोलिक लेप 
* झुर्रियों के लिए रेटिनल लेप 
* निशानों के लिए टीसीए पील या लेप 
* बगल की कालिमा के लिए लेप 

लेप का प्रभाव:- 
* लेप का प्रभाव एक सप्ताह में दिखलाई देता है। 
* पूर्ण प्रभाव 5 - 6 बैठकों के बाद दिखलाई देता है , जबकि प्रभाव प्रथम बार से ही पता चलने लगता है। 
*  इसके बाद त्वचा के कसाव को बरकरार रखने के लिए महीने में एक बार करवा लेना उचित होता है।  (इसके लिए विशेष पैकेज उपलब्ध है। )
 साइड इफेक्ट (विपरीत प्रभाव )   वैसे तो यह एक पूरी तरह सुरक्षित है , कुछ लोगों को हल्की जलन व त्वचा की ऊपरी सतह निकलने की शिकायत हो सकती है , लेकिन यह कुछ ही दिनों के लिए होता है।  ऊपर की निर्जीव त्वचा के स्थान पर नयी कांतिपूर्ण त्वचा स्थान लेती है।  जो जल्द ही आने लगती है।  

लेप के बाद की सावधानियाँ :- 
* इसके बाद चेहरा दो दिन तक सिर्फ पानी से धोएं। 
* त्वचा पर सनस्क्रीन लोशन लगाएं।        
 फॉर्चून हॉस्पिटल में यह सुविधा बेहतरीन ब्रांड के लेप और अनुभवी विशेज्ञ के साथ उपलब्ध है।


                    
 
  

कोई टिप्पणी नहीं: